बियॉंडहेडलाइन्स हिन्दी

12 साल बाद बना रक्षाबंधन पर ऐसा योग

BeyondHeadlines News Desk

इस बार रक्षाबंधन का त्योहार 12 वर्ष बाद श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा पर 29 अगस्त को आदित्य योग में मनाया जाएगा. ज्योतिषियों के मुताबिक इस बार रक्षाबंधन पर दोपहर 1:49 बजे तक भद्रा रहेगी. इसके बाद का समय ही शुभ माना जाएगा. इस बार राखी शनिवार के दिन धनिष्ठा नक्षत्र के साथ कुंभ राशि के चंद्रमा की साक्षी में आ रही है. गुरु व सूर्य सिंह राशि में गोचरस्थ रहेंगे. इस दिन भाइयों के द्वारा बहनों को दिए गए उपहार दोनों के लिए फलदायक व समृद्धि देने वाले रहेंगे.

बहनों को उपहार में दी गई स्वर्ण व रजत की वस्तुएं ऐश्वर्य व शुभ-समृद्धि देने वाली मानी गई है. श्रावण शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा पर जब धनिष्ठा नक्षत्र का संयोग बनता है, तो विशेष धनकारी माना जाता है. 29 अगस्त को दोपहर 1 बजकर 49 मिनट तक भद्रा रहेगी. इसके बाद लाभ व अमृत के चौघड़िए में श्रवण भगवान का पूजन तथा राखी बांधने का क्रम शुरू होगा. शाम को प्रदोष काल तथा इसके बाद लाभ, शुभ के चौघड़िए में रात 11.30 बजे तक त्योहार मनाया जा सकता है.

इस अवसर पर बहनों को चांदी की वस्तुएं, इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पाद जैसे मोबाइल, लैपटॉप, आईपॉड, घड़ियां, एलसीडी आदि उपहार में देना शुभ फलदायी रहेगा. शुभ मुहूर्त में स्वर्ण का दान करना भाई-बहन की आयु में वृद्धि करेगा. मंदिर की परंपरा अनुसार तड़के 4 बजे पुजारी भगवान को राखी बांधकर भोग अर्पित करेंगे.

Loading...

Most Popular

To Top