Latest News

दिग्गी की शादी पर बोलने वाले मोदी पर ख़ामोश क्यों?

42 साल की पत्रकार अमृता राय ने 68 साल के कांग्रेसी नेता दिग्विजय सिंह से शादी कर ली है.

अमृता राय ने एक फ़ेसबुक पोस्ट के ज़रिए कांग्रेस महासचिव और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह से शादी की पुष्टि की है.

दोनों की शादी की ख़बरें पर एक वर्ग ने सोशल मीडिया पर ख़ूब चटख़ारे लिए.

दिग्विजय और अमृता की शादी पर कुछ लोगों ने दोनों के उम्र के फ़ासले को मुद्दा बनाते हुए कटु टिप्पणियां कीं.

पत्रकार अमृता ने अपनी फ़ेसबुक पोस्ट में बेहद विनम्रता से फ़ूहड़ और अश्लील टिप्पणियों का जवाब देते हुए कहा कि वे दिग्विजय को प्यार करती हैं और उनकी शादी की वजह सिर्फ़ दिग्विजय के प्रति उनका प्यार ही हैं.

अमृता ने यह भी लिखा है कि उन्हें दिग्विजय सिंह की संपत्ति में कोई रूचि नहीं है और उन्होंने दिग्विजय से अपनी संपत्तियों को अपने बेटे और बेटियों के नाम करने के लिए कह दिया है.

 

अमृता का कहना है कि उन्होंने अपने प्यार के लिए सादी की है.

अमृता का कहना है कि उन्होंने अपने प्यार के लिए सादी की है.

अमृता और दिग्विजय सिंह की शादी ने भारतीय समाज के दोगले रवैये को भी उजागर कर दिया है.

जो लोग कांग्रेसी नेता की निजी ज़िंदग़ी पर सवाल उठाते हैं वही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बारी आने पर ख़ामोश हो जाते हैं.

जबकि भारतीय संस्कृति की दुहाई देने वाले नरेंद्र मोदी दशकों तक अपनी पत्नी को अस्वीकारते रहे.

और अब जब उन्होंने अपनी पत्नी को राजनीतिक मजबूरियों के  चलते स्वीकार कर भी लिया है तब पत्नी का दर्जा देने के नाम पर वो उन्हें सिर्फ़ निजी स्वतंत्रता में दख़ल देने वाली सुविधा ही दे सके हैं.

उनके पत्नी जशोदाबेन के लिए हालात ऐसे हो गए हैं कि उन्हें आरटीआई दायर कर अपने अधिकारों के बारे में जानकारियां मांगनी पड़ रही हैं.

और जिन्हें सरकार पूरी बेशर्मी के साथ देने से इंकार कर दे रही है.

यही नहीं 64 वर्षीय प्रधानमंत्री मोदी पर गुजराता का मुख्यमंत्री रहते हुए अपनी से एक तिहाई उम्र की एक लड़की की जासूसी करवाने के आरोप लग चुके हैं.

प्रधानमंत्री मोदी ने जसोदाबेन को पत्नी का दर्जा तो दिया है लेकिन अधिकार नहीं.

प्रधानमंत्री मोदी ने जसोदाबेन को पत्नी का दर्जा तो दिया है लेकिन अधिकार नहीं.

बाद में उन्होंने लड़की को अपनी बेटी समान बताया था. लड़की के परिवार ने भी स्वीकार किया था कि सुरक्षा को लेकर चिंताओं के कारण जासूसी करवाई गई थी.

लेकिन क्या नरेंद्र मोदी की पत्नी से अलग रहने को लेकर आलोचना करना सही है जबकि कभी भी उन्होंने सार्वजनिक तौर पर अपनी पत्नी से रिश्तों को लेकर कभी बात नहीं की है.

मोदी उनसे प्यार करते हैं या नहीं करते या साथ रहते हैं या नहीं रहते ये उनकी निजी मामला है.

यहां उनका ज़िक्र करने का उद्देश्य सिर्फ़ यह है कि जो लोग नरेंद्र मोदी के निजी जीवन पर ख़ामोश रहते हैं वो दिग्विजय के प्रेम विवाह पर कीचड़ क्यों उछाल रहे हैं?

हम किस चीज़ को कैसे देखते हैं ये सिर्फ़ हमारे नज़रिए पर ही निर्भर करता है.

और जब हमने आँखें ही बंद कर ली हो तो जो स्पष्ट है वो भी दिखाई कैसे दे.

ख़ैर 68 के दिग्विजय का 42 की अमृता से शादी करना सांस्कृतिक पतन है या नई शुरुआत ये हमारे नज़रिए पर ही निर्भर करता है.

लेकिन समाज  की चिंता किए बना जिसे आप प्यार करते हैं उसे उसके हर रूप में स्वीकार करना एक बड़ा क़दम है.

अमृता राय और दिग्विजय ने ये क़दम उठाकर एक नई शुरुआत की है. जिसका स्वागत किया जाना चाहिए.

(BeyondHeadlines.in के साथ फ़ेसबुक पर ज़रूर जुड़ें)

Loading...

Most Popular

To Top