Real Heroes

शेख़ गुलाब : जिन्होंने अंग्रेज़ों के छक्के छुड़ा दिए…

Afroz Alam Sahil

आज़ादी के इतने सालों बाद शेख़ गुलाब को याद करना मेरे लिए बेहद ही ख़ास है. मुझे यह समझ नहीं आ रहा है कि इस सच्चे देशभक्त किसान नेता को न सिर्फ़ इस देश ने बल्कि उसकी क़ौम और उस समाज ने भी भुला दिया, जिनके लिए वो अपनी आख़िरी सांस तक लड़ते रहें.

1

शेख़ गुलाब एक ऐसे शख़्स का नाम है, जिसने मोहनदास करमचंद गांधी को महात्मा गांधी होने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, मगर खुद गुमनामी के अंधेरों में सिमट गया. एक ऐसा शख़्स जो ज़िन्दगी भर किसानों के समस्याओं और उनके इंसाफ़ की ख़ातिर लड़ता रहा और बदले में सिर्फ़ ज़ुल्म और गुमनामी ही नसीब हुई. एक ऐसा शख्स जिसने चम्पारण के किसानों की दर्द को उस फ़लक तक पहुंचा दिया कि जिसने आज़ादी की लड़ाई की रूप-रेखा तय कर दी. एक ऐसा शख़्स जिसने एक साधारण सी ज़मीन से एक ऐसा आन्दोलन शुरू किया कि वो ज़मीन और उसका इतिहास दोनों ही असाधारण हो गएं. शेख़ गुलाब वो नाम है, जो चम्पारण की धरती के असली गौरव हैं. चम्पारण के किसानों ने ‘तनकठिया’ का जो दंश झेला, उससे सबसे पहले शेख़ गुलाब महसूस किया. सिर्फ़ महसूस नहीं किया बल्कि अंग्रेज़ों समेत उस समय की कांग्रेस के अगली सफ़ के नेताओं को भी महसूस करा दिया.

एक कड़वी हक़ीक़त यह है कि गांधी का चम्पारण आना यूं ही नहीं था. दरअसल, शेख़ गुलाब ने चम्पारण के साधारण से गुमनाम मज़लूम किसानों की समस्याओं को इतना विस्तार दे दिया कि उस ज़माने की कांग्रेस पूरे लाव-लश्कर के साथ शरीक हो गई. यक़ीनन यह काम महात्मा गांधी के अगुवाई में हुआ और इसी चम्पारण सत्याग्रह से गांधी को पूरे देश में असली पहचान मिली. मगर शेख़ गुलाब की पहचान इतिहास के पन्नों में दफ़न हो गई. उन्हें ढ़ूढ़ना और तलाश करना अभी भी बाक़ी है.

1857 में चम्पारण के साठी थाना के चांदबरवा गांव में जन्में शेख़ गुलाब किसान थे. किसानों के लिए उठे. किसानों के लड़े और किसानों के लिए ही मिट गए. इनकी शिक्षा-दीक्षा अधिक नहीं हो पाई थी, बावजूद इसके इनकी बुद्धि काफी तीव्र थी तथा राष्ट्रभक्ति इनकी धमनियों में बाल्यावस्था से ही प्रवाहित हो रही थी.

गांधी जी से पहले 1905 के काल से ही चम्पारण के किसान अंग्रेज़ निलहों के विरूद्ध शेख़ गुलाब के नेतृत्व में जंगजू लड़ाई लड़ रहे थे. उस लड़ाई में चम्पारण के किसानों पर घोर अत्याचार हुआ. उनके संघर्षों को दमनात्मक कार्रवाईयों से दबा देने की पूरी कोशिश हुई.

सन् 1907 ई. के मार्च महीने में शेख़ गुलाब के नेतृत्व में किसानों ने मोतिहारी मजिस्ट्रेट के इजलास में एक दरख़ास्त दी. इसकी जो मुख्य बातें थीं, वे हैं –‘छह या सात साल से साठी कोठी रैयतों को तरह-तरह से तंग कर रही है. वह हम लोगों से अधिक मालगुज़ारी ले रही है और बेगार का काम करवाती है. ज़बरदस्ती नील बोवाती है और उसका पूरा दाम नहीं देती और हम लोगों के विरुद्ध फौजदारी का झूठा मुक़दमा लाकर नील बोने का सट्टा लिखने के लिए हमको बाध्य करती है.’

स्थिति जब और बिगड़ने और निलहे अधिकार का दुरुपयोग करने लगे तो साठी कोठी के रैयतों ने शेख गुलाब के निर्देशन में एक और आवेदन चम्पारण के कलक्टर के पास 14 अगस्त, 1907 को प्रेरिष किया. आवेदन में रैयतों के दुख-दर्द की कहानी थी.

इस दरख़ास्त पर तत्कालीन डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट ‘टी.एस. मैक्फर्सन’ ने मिस्टर टैनर को जांच का हुक्म दिया. लेकिन मिस्टर टैनर ने सन्तोषजनक जांच नहीं की. शेख गुलाब टैनर के इस जांच से संतुष्ट नहीं हुए. अपने दोस्तों के साथ मिलकर इस संबंध में फिर से एक मेमोरियल छोटे लाट के पास भेजा, उसमें उन्होंने इस जांच के विषय में यह लिखा था –‘बेतिया के मजिस्ट्रेट ने कुल तीन ही मौजों में हम लोगों से कुछ जांच की, और फिर जांच पूरी किए बिना ही चले गए.’

12 सितम्बर, 1907 को एक केस में शेख गुलाब को जेल भेज दिया गया. हालांकि इस केस में 162 लोगों को सज़ा मिली थी. लेकिन बताया जाता है कि अंग्रेज़ों ने जेल के अंदर सबसे अधिक प्रताड़ित शेख़ गुलाब को ही किया.

सन् 1907-08 में साठी कोठी के रैयतों ने नील बोना छोड़ दिया. यह बात आसपास के लोगों को भी मालूम हो गई. बस क्या था, वे अब कब नील के बन्धन में जकड़े रह सकते थे. एक-एक करके उन लोगों ने नील बोना बंद करना शुरू किया. साठी कोठी में नील बन्द करने में शेख गुलाब ने बड़ा भाग लिया था. उनके उदाहरण से लोगों के दिल में और भी साहस व उत्साह भर आया. शेख गुलाब को बड़ी भारी आर्थिक क्षति उठानी पड़ी, किन्तु रैयतों की आंखों में उनका मान बहुत ही बढ़ गया. उनको वे अपना आदर्श तथा सच्चा हितैषी समझने लगे.

‘1909 के आस-पास शेख गुलाब के नेतृत्व में सारे रैयत नीलहों के ख़िलाफ़ एकजुट हो गए. किसानों की एकजुटता पर नीलहे भौंचक्के रह गए. शेख गुलाब समेत दो सौ लोगों को अंग्रेज़ों ने सिपाही में नौकरी देने का प्रलोभन दिया. उन लोगों ने आरक्षी बनने से साफ़ इनकार कर दिया. सरकार ने सभी आंदोलनकारियों पर आदेश उल्लंघन का मुक़दमा चलाया. सभी नेताओं को गिरफ़्तार कर लिया गया. किसानों की यह लड़ाई बाद में चलकर आज़ादी की लड़ाई के रूप में प्रस्फुटित हुई.’

विरोध और विद्रोह की आग की लपटें गांव-गांव में फैलने लगी. सतवरिया के राजकुमार शुक्ल, साठी गांव के शेख़ गुलाब और मठिया गांव के शीतल राय गांव-गांव घूमते हैं, संगठन बनाते हैं और निलहों के अत्याचार से लोहा लेने के लिए किसानों को जगाते हैं. शेख गुलाब के नेतृत्व में मुसलमान रैयत मीटिंग करते हैं तथा नील की खेती करना छोड़ देते हैं.

शेख़ गुलाब के संघर्षों की काफी लंबी दास्तान है. लेकिन हैरानी की बात यह है कि आज शेख गुलाब को चम्पारण के लोग ही भुला बैठे हैं. शहर में उनके नाम पर ‘गुलाब मेमोरियल कॉलेज’ ज़रूर है, लेकिन यहां के छात्र व शिक्षक शायद ही शेख़ गुलाब के कारनामों से रूबरू हैं.

इस ‘गुलाब मेमोरियल कॉलेज’ के संस्थापक व शेख़ गुलाब के पोतों में से एक फ़खरे आलम बताते हैं कि –‘शेख़ गुलाब को लेकर वो कई पत्र सरकारों को लिख चुके हैं. विधानसभा में एक विधायक इस संबंध कई प्रश्न भी कर चुके हैं. बावजूद इसके कभी किसी सरकार ने इस महान स्वतंत्रता सेनानी को कभी भी याद नहीं किया.’

वो आगे कहते हैं कि –‘आज जब भारत व बिहार सरकार चम्पारण सत्याग्रह का शताब्दी वर्ष मना रही है, ज़रूरत इस बात की है कि शेख़ गुलाब जैसे लोगों को याद किया जाए, क्योंकि यदि शेख़ गुलाब न होते तो यक़ीनन चम्पारण सत्याग्रह नहीं होता और शायद गांधी जी को इतनी ख्याति नहीं मिलती. सच पूछे तो गांधी जी जिस फ़सल को काटकर पूरे दुनिया में प्रसिद्ध हुए, दरअसल वो फ़सल शेख गुलाब की लगाई हुई थी.’

शेख़ गुलाब की विरासत आज भी चम्पारण के चप्पे-चप्पे में बिखरी हुई है. सच तो यह है कि महापुरूषों के ‘ग्लैमराईजेशन’ के इस दौर में हम देश के उन सच्चे सपूतों को भूल चुके हैं, जिन्होंने नाम की परवाह किए बग़ैर ग़रीब व मज़लूमों के लिए अपना सर्वस्व निछावर कर दिया. लेकिन सवाल यह है कि आज़ाद मुल्क के नेताओं ने शेख़ गुलाब कभी याद क्यों नहीं किया. क्यों हमारी स्कूली किताबों में उनका ज़िक्र नहीं होता है. क्यों उनकी विरासत को संजोने के लिए उनके नाम पर स्कूल, लाईब्रेरी, अस्पताल या किसान सेन्टर नहीं खोले गए. क्या ये सुनियोजित साज़िश का हिस्सा था, जिसके तहत ज़मीन से जुड़े इस सच्चे देशभक्त को दरकिनार कर दिया गया और देश की आज़ादी और उसकी तरक़्क़ी का सेहरा चंद चेहरों के सिर पर बांध दिया गया. इस सवाल का जवाब ढ़ूढ़ना बेहद ही ज़रूरी है. शेख़ गुलाब हमारी आज़ादी का आईना हैं, जिसमें हमें अपनी सूरत देखने की ज़रूरत है.

(लेखक इन दिनों शेख़ गुलाब पर शोध कर रहे हैं. वो जल्द ही शेख़ गुलाब के सम्पूर्ण ज़िन्दगी पर एक पुस्तक लाने की तैयारी में हैं.)

Loading...
Loading...

Most Popular

Loading...
To Top

Enable BeyondHeadlines to raise the voice of marginalized

 

Donate now to support more ground reports and real journalism.

Donate Now

Subscribe to email alerts from BeyondHeadlines to recieve regular updates

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.