India

बीजेपी नेता ने किया परेशान तो पेश-ए-इमाम ने लगाई फांसी, दर्ज हुई एफ़आईआर

BeyondHeadlines News Desk

ललितपुर: उत्तर प्रदेश के झांसी से सटा हुए ललितपुर ज़िला के कोतवाली सदर अंतर्गत अजीतपुरा मुहल्ला स्थित मस्जिद के कमरे में पेश इमाम हाजी अब्दुल अलीम का सोमवार की रात फांसी लगाकर आत्महत्या कर लेने का मामला प्रकाश में आया है. इस मामले के बाद पूरे इलाक़े में लोगों में काफ़ी रोष है. कुछ लोग इसे आत्महत्या के बजाए हत्या क़रार दे रहे हैं. हालांकि इसका सच पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही उजागर होगा.

कोतवाली सदर पुलिस ने मृतक के पुत्र अब्दुल मुईन की तहरीर पर इक़बाल बेग, नासिर मंसूरी और ज़ाकिर राज चौहान के ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज किया है. स्थानीय लोगों के मुताबिक़ ये लोग भारतीय जनता पार्टी के साथ जुड़े हैं. बल्कि हाजी इक़बाल बेग भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के ज़िलाध्यक्ष हैं, वहीं नासिर मंसूरी ज़िला महामंत्री बताए जाते हैं. 

पुलिस को दिए लिखित बयान में परिजनों ने बताया कि मेरे पिता को नासिर मंसूरी, इक़बाल बेग और ज़ाकिर राज चौहान पिछले चार सालों से मानसिक रूप से परेशान कर रहे थे, जिसके कारण उन्हें ये क़दम उठाना पड़ा.  

स्थानीय लोग आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर हंगामा कर रहे थे, उन्होंने शव नहीं उठाने दिया, बड़े अफ़सर मौक़े पर पहुंचे. उनके काफ़ी समझाने के बाद मंगलवार की रात को दफ़न किया गया.

स्थानीय लोगों का भी आरोप है कि भाजपा से जुड़े ये नेता कई सालों से इमाम को परेशान कर रहे थे. यही नहीं मस्जिद की एक दुकान पर भी क़ब्ज़ा जमा रखा है और इन्हीं लोगों के कारण मस्जिद का निर्माण भी नहीं हो पा रहा था. साथ ही इन लोगों के कारण इमाम अपने घर की तामीर भी नहीं कर पार रहे थे. इन लोगों का आरोप है कि इस बात की संभावना से भी इंकार नहीं किया जा सकता है कि इमाम ने खुद को फांसी न लगाई हो, बल्कि मारा गया हो.  

बताया जाता है कि पेश इमाम मोहल्ला अजीतापुरा की मस्जिद के हुजरे में रहते थे. रमज़ान का महीना चल रहा है, इसलिए मंगलवार की सुबह फ़ज्र की नमाज़ अदा करने नमाज़ी मस्जिद में पहुंचे और पेश इमाम के बाहर आने का इंतज़ार किया, लेकिन जब वह बाहर नहीं निकले तो कुछ लोगों ने अंदर जाकर देखा तो वहां पेश इमाम के गले में फांसी का फंदा लगा था.

इमाम की फाईल फोटो

कुछ लोगों का ये भी कहना है कि गले में फांसी का फंदा ज़रूर था, लेकिन वो बैठे नज़र आ रहे थे. वहीं कुछ लोगों का मानना है कि इसका कारण कमरे की ऊंचाई कम थी, इसलिए पेश इमाम बैठे नज़र आ रहे थे.

सूचना पर अपर ज़िलाधिकारी अनिल कुमार मिश्र, पुलिस अधीक्षक कैप्टन एम.एम. बेग, सीओ सिटी राजा सिंह और कोतवाल मनोज कुमार वर्मा मौक़े पर पहुंचे. पेश इमाम के बेटे अब्दुल मुईन की तहरीर पर कोतवाली पुलिस ने सिविल लाइन निवासी नासिर मंसूरी, मोहल्ला घुसयाना निवासी इक़बाल बेग और ग्राम पनारी निवासी ज़ाकिर राज चौहान के ख़िलाफ़ आत्महत्या के लिए दुष्प्रेरित करने के मामले में धारा 306 के तहत मुक़दमा दर्ज कर लिया है.

Most Popular

To Top