#2Gether4India

ये पोस्ट उन लोगों व दोस्तों के लिए जिन्हें हमारे देश के पीएम मोदी पसंद नहीं हैं…

BeyondHeadlines Editorial Desk

ये पोस्ट ख़ास तौर पर उन लोगों व दोस्तों के लिए जिन्हें हमारे देश के पीएम मोदी पसंद नहीं हैं… जो चिढ़ते हैं उनसे… जिन्हें लगता है कि उनकी पार्टी व विचारधारा के लोग इस देश को तोड़ रहे हैं और ऐसे लोगों के चलते देश का संविधान ख़तरे में है…

हो सकता है कि आपकी बात में सच्चाई हो. हम आपको ख़ारिज नहीं करना चाहते. ये भी हो सकता है कि आप ये बात अपने आस-पास के माहौल या खुद के तजुर्बे की बुनियाद पर कह रहे हों. ये बात भी सच है कि ‘धर्म’ के नाम पर देश के गांव-क़स्बों में कुछ असामाजिक तत्वों की सक्रियता बढ़ी है. ये लोग कभी धर्म के नाम पर, कभी गाय के नाम पर, कभी खान-पान के नाम पर निर्दोष लोगों के साथ जमकर अत्याचार करते हैं. लेकिन ये बात भी सौ आने सच है कि पीएम मोदी पूरे पांच साल इस देश के प्रधानमंत्री रहने वाले हैं. आप अपने ख्वाबों में उनसे चिढ़ते रहिए, उनके नाम के पर्चे फाड़ते रहिए पर आपके इस चिढ़ने, कहने-लिखने या विरोध करने से यहां का निज़ाम क़तई बदलने वाला नहीं है… पर मतलब ये भी नहीं है कि आप सरकार की ग़लत नीतियों के ख़िलाफ़ बोलना-लिखना या विरोध करना ही छोड़ दें… ये आपका लोकतांत्रिक अधिकार है और आपको खुद को क़ानून के दायरे में रहकर वो हर ज़िम्मेदारी निभानी चाहिए जो लोकतंत्र की मज़बूती व उसके बचाव के लिए ज़रूरी हो… 

याद रहे जिस तरह से हम लोग साम्प्रदायिकता को स्वाभाविक तौर पर स्वीकार करने लगे हैं, ये हम सबके लिए बेहद ही ख़तरनाक है. धर्म-निरपेक्षता में कमियां हो सकती हैं, मगर आप ही बताईए कि साम्प्रदायिकता में क्या कोई एक भी ख़ूबी हो सकती है? इसलिए सतर्क हो जाईए. कहीं ऐसा न हो कि आप साम्प्रदायिकता को सही ठहराते-ठहराते एक दिन जानवर न बन जाएं…

इन हालात में ये भी ज़रूरी हो जाता है कि कुछ अच्छे व सामाजिक लोग आगे आएं. गांव में, क़स्बों में बाहरी लोगों की आमद व रफ़्त पर पूरी नज़र रखें… कुछ भी ग़लत हो रहा हो या अलग हो रहा हो तो उसकी सूचना तुरंत ज़िला से लेकर राज्य व केन्द्र तक पहुंचाएं… 

और हाँ! याद रखें कि हिंसा का जवाब हिंसा कभी नहीं हो सकता… जब 10 बुरे लोग मिलकर बुरा काम कर सकते हैं तो 10 अच्छे लोग मिलकर अच्छा काम क्यों नहीं कर सकते… वैसे भी मेरा मानना है कि हमारे देश में अच्छे लोगों की तादाद ज़्यादा है… 

इसी के मद्देनज़र आपका BeyondHeadlines पिछले कई महीनों से #2Gether4India नामक एक अभियान चला रहा है. इस अभियान में अब तक 100 से अधिक लोगों ने हिस्सा लिया है, लेकिन अब एक बार फिर से इस अभियान को आगे ले जाने की ज़रूरत है… आप भी तमाम निगेटिव बातों को भूलकर याद कीजिए कि आपके दूसरे धर्मों से संबंध रखने वाले जो साथी हैं, उनमें कोई तो अच्छाई होगी. आपकी ज़िन्दगी में कभी तो वो किसी काम आया होगा. बस आप उन्हीं मीठी अच्छी यादों को याद करते हुए अपना एक वीडियो हमें बनाकर भेज दीजिए. वीडियो के अंत में अपना प्यारा सा संदेश देना मत भूलिएगा… आप अपना वीडियो बनाकर [email protected] पर मेल कर सकते हैं…

Loading...
2 Comments

2 Comments

  1. Abida

    June 23, 2019 at 2:44 PM

    Totally agree dimaag thanda rakhkr, milkar kaam krna chahiye, bure log se zyada ache log hai par faeda tabhi hai jab ache unite ho.

  2. Mohammad Rizwan kaify

    June 26, 2019 at 1:12 PM

    Dear beyond headlines
    I personally support your thought. Per sir wo taklif kya hoti jiske family k sath ye log janwar aur mandir k naam pe julm karty hain. Akhir kb tk hm khamos rahengy kb tk ye patience bnaye rakhna hoga. apka kahna sahi hain ki achhe log hain to wo fr achhai q ni kr rahy? Q nii burey logo k khilaf ja rahy? Q burey logo ko support kr rahy (kathuaa kand) ?

    Sir hmara constitution best hain per follow kaun kr raha? Sb to apney sahuliyat k hisab se usey badal de rahy hain. Apni baat sahi tarikey se rakhny pe hm desdrohi bn ja rahy. Then what we can do?
    Sir aise halat me majburan tikha rasta akhtiyar karna padega. Tb wo hmari sunengy ki hm kmjor nii hm shanti chahty hain

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...

Most Popular

Loading...
To Top

Enable BeyondHeadlines to raise the voice of marginalized

 

Donate now to support more ground reports and real journalism.

Donate Now

Subscribe to email alerts from BeyondHeadlines to recieve regular updates

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.