India

मोदी जी! पंडित नेहरू की एक और ग़लती सुधारिए, मुसलमान और ईसाई दलितों को इंसाफ़ दिलाइए…

BeyondHeadlines News Desk

नई दिल्ली : वरिष्ठ पत्रकार युसूफ़ अंसारी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को अनुच्छेद  370 की तर्ज़ पर अनुच्छेद 341 पर भी कड़ा फ़ैसला लेने की चुनौती दी है. प्रधानमंत्री के नाम एक खुला ख़त लिखकर कहा है कि 10 अगस्त 1950 को पंडित नेहरू की सरकार ने तात्कालीन राष्ट्रपति राजेन्द्र प्रसाद के ज़रिए एक आदेश पारित कराकर मुसलमान और ईसाई दलितों के आरक्षण का हक़ ख़त्म कर दिया था. लिहाज़ा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पंडित नेहरू की इस ऐतिहासिक ग़लती को ठीक उसी तरह सुधारें जैसे उन्होंने अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी करके सुधारा है.

यूसुफ़ अंसारी का पीएम मोदी के नाम ‘खुला ख़त’ आप यहां देख सकते हैं —

सेवा में,

श्रीमान नरेन्द्र मोदी जी,

प्रधानमंत्री, भारत सरकार

विषय: मोदी जी, पंडित नेहरू की एक और ग़लती सुधारिए, मुसलमान और ईसाई दलितों को इंसाफ़ दिलाइए

आदरणीय प्रधानमंत्री जी आदाब अर्ज़ है,

सबसे पहले तो आपको बधाई दे दूं कि आपने जम्मू-कश्मीर को लेकर बहुत बड़ा और कड़ा फैसला किया. ऐसा करने की हिम्मत दिखाने के लिए आपको दिल की गहराईयों से बधाई. दूसरे ट्रिपल तलाक़ के ख़िलाफ़ आपने एक क़ानून बनाया. हालांकि कुछ प्रावधानों से असहमति के बावजूद आपके इस क़दम का समर्थन करता हूं और उम्मीद करता हूं कि मुस्लिम समुदाय के हित में मुसलमानों के निजी क़ानूनों में जिन और सुधारों की ज़रूरत है उन पर भी आप इसी तरह सख़्ती से फैसला लेंगे.

ट्रिपल तलाक़ के ख़िलाफ़ क़ानून बनाकर आपने राजीव गांधी की ग़लती को सुधारा है. वहीं अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी करके आपने पंडित नेहरू की ग़लती को सुधारने का दावा किया है.

संविधान के अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी करके जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा ख़त्म करने के पीछे आपने मुख्य वजह बताई है कि इससे संविधान में दिए गए बराबरी के अधिकारों का उल्लंघन हो रहा था. राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में आपने इस बात का ज़िक्र किया है कि 1947 में पश्चिमी पाकिस्तान से आए क़रीब 5000 हिंदू परिवार जम्मू में रह रहे थे. उनको अनुच्छेद 370 की वजह से ही वहां की नागरिकता नहीं मिल पा रही थी. आपने इस तथ्य को स्थापित कर दिया है कि अनुच्छेद 370 पंडित नेहरू की एक बहुत बड़ी ग़लती थी. इसे सुधारा जाना ज़रूरी था. इस पर आपको कांग्रेस के भीतर तक से समर्थन मिल रहा है. इसके लिए आपको हार्दिक बधाई.

ट्रिपल तलाक़ के ख़िलाफ़ बनाए गए क़ानून के पीछे भी यही तर्क दिया गया था कि ट्रिपल तलाक़ मुस्लिम महिलाओं के साथ नाइंसाफ़ी है और उनके संविधान में पुरुषों के बराबर के अधिकार का उल्लंघन करती है. क़ानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने हमेशा कहा है कि ट्रिपल तलाक़ के मुद्दे को धार्मिक चश्मे से ना देखा जाए. बल्कि इस मुद्दे को लैंगिक समानता, महिला अधिकार और सशक्तिकरण के साथ ही संविधान में दिए गए बुनियादी अधिकारों के आधार पर हल किया जाए. ट्रिपल तलाक़ से संबंधित संसद और संसद के बाहर दिए गए उनके भाषणों का यही सार रहा है.

आदरणीय प्रधानमंत्री जी, पंडित नेहरू की एक ऐसी एक और बड़ी भूल है जिसकी वजह से देश में करोड़ों लोगों के साथ नाइंसाफ़ी हो रही है. उनके बुनायादी अधिकारों का हनन किया जा रहा है. यह भूल संविधान में दिए गए बराबरी और धार्मिक आज़ादी के अधिकारों का अतिक्रमण करती है. इस भूल को सुधारने के लिए लंबे समय से सामाजिक संघर्ष चल रहा है. पिछले 15 साल से मामला सुप्रीम कोर्ट में भी है. लेकिन केंद्र सरकार सुप्रीम कोर्ट में अपना पक्ष रखने को तैयार नहीं है. कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार ने पूरे 10 साल इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट के सामने टालू रवैया अपनाया है. पिछले 5 साल से आपकी सरकार ने भी सुप्रीम कोर्ट में इस बारे में अपना पक्ष नहीं रखा है.

आप सोच रहे होंगे कि आख़िर पंडित नेहरू की वो कौन सी बड़ी ग़लती है और कौन लोग उससे प्रभावित हो रहे हैं? मैं आपको बताता चलूं कि मामला संविधान के अनुच्छेद 341 का है. यह अनुच्छेद अनुसूचित जातियों के लोगों को उनकी आबादी के अनुपात में शिक्षण संस्थानों और सरकारी नौकरियों में आरक्षण सुनिश्चित करता है. 26 जनवरी 1950 को जब संविधान लागू हुआ तो उस समय अनुसूचित जाति धर्मनिरपेक्ष आधार पर तय होती थीं. यानी अनुसूचित जातियां कौन होगी इससे धर्म का कोई लेना देना नहीं था. लेकिन 10 अगस्त 1950 को तात्कालीन पंडित जवाहरलाल नेहरू की सरकार ने तात्कालीन राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद के ज़रिए संविधान (अनुसूचित जाति) आदेश 1950 लागू करके यह व्यवस्था कर दी कि सिर्फ हिंदू धर्म को मानने वाले ही अनुसूचित जातियों की सूची में शामिल किए जाएंगे. सिख, बौद्ध, ईसाई और इस्लाम धर्म को मानने वाले इस दायरे से बाहर रहेंगे. इस आदेश में यह भेदभाव करने की कोई वजह नहीं बताई गई है.

राष्ट्रपति का यह आदेश संविधान में अनुच्छेद 14 के तहत दिए गए बराबरी के अधिकार का सीधा-सीधा उल्लंघन है. अनुच्छेद 14 कहता है कि सरकार अपने नागरिकों के बीच धर्म, जाति, नस्ल, जन्म स्थान या लिंग के आधार पर किसी तरह का भेदभाव नहीं करेगी. राष्ट्रपति के इस आदेश से संविधान का अनुच्छेद 14 दलित आरक्षण के मामले में निष्प्रभावी हो गया. इस पर उस समय सिखों के बड़े नेता ताराचंद में पंडित नेहरू पर वादा-ख़िलाफ़ी का आरोप लगाया.

बताता चलूं कि संविधान सभा में सिखों को यह गारंटी दी गई कि थी हिंदू धर्म छोड़कर सिख धर्म अपनाने वाले दलितों का दलित स्टेटस बरक़रार रहेगा. यानी धर्म बदलने से उन्हें आरक्षण के दायरे से बाहर नहीं किया जाएगा.

सिखों के तीखे विरोध के बाद 1956 में इस आदेश में संशोधन किया गया. सिख धर्म को हिंदू धर्म का ही एक पंथ क़रार देते हुए उसे हिंदू धर्म का हिस्सा बता दिया गया. इस तरह सिख धर्म अपना चुके दलितों को आरक्षण की व्यवस्था बदस्तूर जारी रहने की छूट मिल गई. इसके बाद 1990 में एक बार फिर इस आदेश में संशोधन किया गया और नव बौद्धों के लिए भी शिक्षा संस्थानों और सरकारी नौकरियों में आरक्षण का रास्ता खुल गया. राष्ट्रपति के इस आदेश के मौजूदा प्रावधान कहता है कि केवल हिंदू, सिख और बौद्ध धर्म मानने वाले ही अनुसूचित जातियों में शामिल किए जाएंगे. यानी आज भी यह आदेश संविधान के अनुच्छेद 14 का सीधा उल्लंघन कर रहा है.

1995 में तात्कालीन प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव ने ईसाई धर्म अपना चुके दलितों को भी इसी श्रेणी में आरक्षण देने के लिए इस आदेश में संशोधन की कोशिश की थी. उस वक़्त आपकी पार्टी बीजेपी ने इसका ज़बरदस्त विरोध किया था. लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी समेत बीजेपी के तमाम वरिष्ठ नेताओं ने तात्कालीन राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा से मिलकर सरकार को ऐसा करने से रोकने की गुज़ारिश की थी. उस वक़्त यह तर्क दिया गया था कि ईसाई और इस्लाम धर्म भारतीय मूल के नहीं हैं. दोनों ही धर्म समानता के सिद्धांत पर आधारित हैं. इनमें हिंदू समाज की तरह वर्ण व्यवस्था नहीं है. यह दोनों धर्म अपनाने के बाद दलित सामाजिक रूप से अछूत नहीं समझा जाता. इसलिए अनुसूचित जातियों के दायरे में उन्हें आरक्षण नहीं दिया जा सकता. उसके बाद से ही मुसलमान और ईसाई दलित अपने हक़ के लिए हर मोर्चे पर लड़ रहे हैं. लेकिन उन्हें कहीं इंसाफ़ नहीं मिल रहा.

दरअसल, यह तर्क कई गंभीर सवाल खड़े करता है. पहला सवाल यह है कि क्या अनुसूचित जातियों को आरक्षण उन्हें अछूत होने की वजह से दिया गया है? क्या हिंदू समाज आज भी वर्ण व्यवस्था को मान्यता देता है? संविधान के अनुच्छेद 17 के तहत छुआछूत को पूरी तरह ख़त्म किए जाने के बाद भी हिंदू समाज में छुआछूत की मान्यता है? अगर ऐसा है तो धर्म के नाम पर दलितों को बांटना उनके साथ और भी बड़ी नाइंसाफ़ी है. जिस व्यक्ति के लिए सफ़ाई का काम करने वाला व्यक्ति अछूत है. उसे इससे कोई फ़ र्क़नहीं पड़ता कि उसका धर्म क्या है. उसके लिए राम कुमार भी अछूत होगा और अब्दुल रहीम भी. लिहाज़ा इस आधार पर मुसलमान-ईसाई दलितों को आरक्षण के दायरे में लाने से नहीं रोका जा सकता.

1958 का एक और क़ानून है जो यह कहता है कि कोई दलित अगर ईसाई या इस्लाम अपनाकर धर्म का लेता है तो उसे दलित होने के नाते मिलने वाली तमाम सुविधाएं तत्काल प्रभाव से मिलना बंद हो जाएंगी. लेकिन अगर वह फिर से ईसाई या इस्लाम धर्म छोड़कर हिंदू धर्म में वापस आ जाता है तो वह फिर से वह सारी सुविधाएं पाने का हक़दार होगा. यह क़ानून संविधान में दिए गए धार्मिक आज़ादी के मौलिक अधिकार का सीधा उल्लंघन है.

एक तरफ़ संविधान लालच देकर धर्म परिवर्तन पर रोक लगाता है. वहीं संविधान की मूल भावना के ख़िलाफ़ जाकर इस देश में ऐसा क़ानून बनाया गया जो लोगों को किसी एक ख़ास धर्म में रुकने पर मजबूर करता है. अगर लालच देकर किसी का धर्म बदलना संविधान के ख़िलाफ़ है तो लालच देकर किसी धर्म में रोके रखना भी संविधान की मूल भावना के ख़िलाफ़ माना जाएगा.

यहां अहम सवाल यह है कि मुसलमान और ईसाई दलितों यानी दलितों का वह वर्ग जो धर्म बदल कर मुसलमान या ईसाई हो गया है क्या वह संविधान में दिया गया बराबरी के अधिकार पाने का हक़दार है या नहीं. अगर संविधान के इसी बराबरी के अधिकार पर ट्रिपल तलाक़ को रोकने के लिए क़ानून लाया जा सकता है और अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी करके जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा ख़त्म किया जा सकता है तो फिर 10 अगस्त 1950 को राष्ट्रपति के हस्ताक्षर से जारी किए गए आदेश को भी निरस्त किया जा सकता है. राष्ट्रपति का यह आदेश संविधान के अनुच्छेद 14 और अनुच्छेद 25 का सीधा उल्लंघन है. धर्म के आधार पर अपने नागरिकों के बीच भेदभाव करता है.

फ्रैंकलिन नाम के एक ईसाई दलित में मार्च 2004 में राष्ट्रपति के इस आदेश को चुनौती देते हुए इसे निरस्त करने की याचिका सुप्रीम कोर्ट में लगाई थी. इस याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से जवाब मांगा. केन्द्र सरकार ने गोलमोल जवाब दिया. सुप्रीम कोर्ट ने केन्द्र सरकार से पूछा था कि क्या मुसलमान और ईसाई दलितों को दलित आरक्षण क्यों नहीं दिया जा सकता? डॉ. मनमोहन सिंह की यूपीए सरकार ने इस पर कोई जवाब नहीं देते हुए इस पर फ़ैसला सुप्रीम कोर्ट पर ही छोड़ दिया. यानी इस वक़्त सरकार ने कहा था कि अगर सुप्रीम कोर्ट ऐसा करने का आदेश देता है तो सरकार इसमें बदलाव कर सकती है. इस पर सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से दोबारा जवाब मांगा. लेकिन 2014 में अपनी विदाई तक यूपीए सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में हलफ़नामा दाख़िल नहीं किया. हैरानी की बात यह है कि पिछले 5 साल में आपकी सरकार ने भी सुप्रीम कोर्ट में अपना पक्ष नहीं रखा है. इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट में आगामी सितंबर में सुनवाई शुरू होगी.

प्रधानमंत्री जी आपको ज्ञात होगा कि मई 2007 में आई रंगनाथ मिश्रा आयोग की रिपोर्ट में इस राष्ट्रपति के इस आदेश को संविधान की मूल भावना के ख़िलाफ़ बताते हुए इसे निरस्त करने की सिफ़ारिश की थी. आयोग ने साफ़ कहा है कि आरक्षण देने के मामले में धार्मिक भेदभाव नहीं किया जाना चाहिए.

इससे पहले 2006 में आई सच्चर कमेटी की रिपोर्ट में मुसलमानों के एक तबक़े की हालत दलितों से बदतर बताई गई है. यह वही तबक़ा है जो कालांतर में इस्लाम धर्म अपनाकर मुसलमान हो गया था. धर्म बदलने से उसे मस्जिद में जाकर नमाज़ पढ़ने की इजाज़त तो मिली. लेकिन उसके सामाजिक और शैक्षिक स्थिति में कोई फ़र्क़ नहीं आया. दलितों को शिक्षा और नौकरियों में मिली विशेष छूट और आरक्षण की वजह से उसके समकक्ष दलित वर्ग समाज में काफ़ी आगे बढ़ गया.

प्रधानमंत्री जी इस पत्र के माध्यम से मैं आपसे पूछना चाहता हूं  कि क्या मुसलमान और ईसाई दलितों के साथ यह धार्मिक भेदभाव अनंतकाल तक चलता रहेगा या इस पर कभी रोक लगेगी. अगर आप संविधान में दिए गए बराबरी के अधिकारों की दुहाई देकर मुसलमानों की मर्ज़ी के बग़ैर ट्रिपल तलाक़ क़ानून बना सकते हैं, घाटी के लोगों की मर्ज़ी पूछे बग़ैर अनुच्छेद 370 निष्प्रभावी करके उन्हें मिला विशेष दर्जा ख़त्म कर सकते हैं. तो फिर राष्ट्रपति का आदेश निरस्त करके संविधान के अनुच्छेद 341 को धार्मिक भेदभाव रहित बनाने के लिए कड़ा क़दम क्यों नहीं उठा सकते? 

प्रधानमंत्री जी, मैं आपसे निवेदन करता हूं कि आप पंडित नेहरू की ऐतिहासिक ग़लती को सुधारने के लिए एक और कड़ा क़दम उठाने की हिम्मत दिखाइए. धार्मिक आधार पर 70 साल से भेदभाव का शिकार हो रहे मुसलमान और दलित ईसाइयों को इंसाफ़ दिलाइए. देश के मुसलमान-ईसाई दलित और उनकी आने वाली पीढ़ियां इसके लिए हमेशा आपकी आभारी रहेंगी.

आपका अपना,

पंडित नेहरू की ग़लती का शिकार एक भारतीय मुसलमान दलित

Loading...
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...

Most Popular

Loading...
To Top

Enable BeyondHeadlines to raise the voice of marginalized

 

Donate now to support more ground reports and real journalism.

Donate Now

Subscribe to email alerts from BeyondHeadlines to recieve regular updates

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.