Exclusive

9 बजे 9 मिनट और 9 जगहों पर लगी आग, ‘जश्न’ ने कई घरों को जलाकर किया खाक

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अपील पर रविवार रात 9 बजे पूरे देश में ‘जश्न’ जैसा माहौल रहा. दीयों की रोशनी और पटाखों के शोर से ऐसा लग रहा था कि पूरा देश ‘दिवाली’ सेलिब्रेट कर रहा है. इस ‘सेलिब्रेशन’ के बीच कई जगहों से आग लगने की घटना सामने आई है. तीन मौत तो वहीं दर्जनों घर जले हैं. वहीं कई लोग पूरी तरह से बर्बाद हो चुके हैं…

हमने यहां आग लगने की सिर्फ़ उन ख़बरों को एकत्रित किया है, जो रात के 9 बजे के बाद की घटना है और मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़ ये घटना पटाखों और दीया के जलाने आदि से हुई है. स्पष्ट रहे कि यहां सिर्फ़ वही ख़बरें हैं, जिन्हें देश के किसी न किसी वेबसाइट ने प्रकाशित किया है. वहीं कई ख़बरों की जांच-पड़ताल हमने खुद की है.

— तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई के अर्णवूर इलाक़े में कुछ लोगों द्वारा पटाखे जलाने पर कूड़े के ढेर में आग लग गई. तेज़ी से बढ़ती आग को रोकने के लिए तीन फ़ायर ब्रिगेड मौक़े पर पहुंचे और आग पर क़ाबू पाया. फिलहाल इस घटना में किसी के भी हताहत या घायल होने की पुष्टि नहीं हुई है.

— पश्चिम बंगाल के कोलकाता शहर में न्यू टाउन के एक अपार्टमेंट एक फ्लैट में भी आग लगने की ख़बर है. उस अपार्टमेंट में रह रहे लोगों के मुताबिक़ ये आग दीया जलाने के क्रम में लगी. लेकिन फायर बिग्रेड ने तुरंत पहुंच कर आग को क़ाबू में कर लिया. इस आग की वजह से फ्लैट का सारा सामान जलकर राख हो गया. किसी के हताहत होने की ख़बर नहीं है.

— बिहार के पूर्वी चम्पारण ज़िला अंतर्गत ढ़ाका प्रखंड स्थित सपही गांव में दीप और पटाखा जलाने के दौरान एक घर में आग लगी और धीरे-धीरे कई घरों तक फैल गई. आग लगने की वजह से क़रीब 10 घर जलकर राख हो गए. वहीं इस आग की वजह से कुछ जानवरों को भी नुक़सान पहुंचा है.

— राजस्थान के जयपुर शहर के वैशाली नगर क्षेत्र के हनुमान एक्सटेंशन में एक घर की छत पर पटाखे गिरने से वहां आग लग गई. हालांकि एक ख़बर के मुताबिक़ यहां रविवार की रात दीये जलाने के साथ ही लोगों ने आसमान में रोशनी के बैलून उड़ाए. एक झोपड़ी पर एक बैलून गिरा, जिसके कारण झोपड़ी में आग लग गई. ये झोपड़ी पूरी तरह से जल गई. इसी आग के कारण पास का मकान भी आग की चपेट में आ गया.

— मध्य प्रदेश के उज्जैन शहर में रात 9 बजे ढाबा रोड क्षेत्र के निवासी दीया जला रहे थे. इसी दौरान गेबी हनुमान मंदिर के पास रहने वाला एक युवक दिया चलाने के बाद रोड पर निकला और कलाबाजी करने लगा. युवक ने अपने मुंह में ज्वलनशील पदार्थ भरा और फिर मुंह से आग निकालने की कलाबाजी दिखाने लगा. एक बार युवक मुंह से आग निकालने की कलाबाजी में सफल रहा, लेकिन जब उसने दूसरी बार ऐसा किया तो युवक के मुंह में आग लग गई. इसकी वजह से उसका चेहरा आग की चपेट में आ गया. युवक की चीख सुनकर लोगों में हड़कंप मच गई. वहां खड़े लोगों ने दौड़कर अपने हाथों से उसके मुंह की आग बुझाई और उसे बचाया.

— बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर में करजा थाना क्षेत्र के बड़कागांव ढाला से बरौना जाने वाले रास्ते में चिमनी के समीप रविवार की रात अंडा हैचरी में भीषण आग लगने की ख़बर है. इस आग की वजह से लाखों की संपत्ति नष्ट हो गई. आग लगने का कारण बिजली का शार्ट सर्किट होना बताया जा रहा है, लेकिन आस-पास के लोगों का कहना है कि पटाखों की चिंगारी है. इसकी देखभाल कर रहे लाल बाबू सिंह का भी कहना है कि यहां बिजली का कोई कनेक्शन नहीं था.

— रविवार रात महाराष्ट्र के सोलापुर एयरपोर्ट पर भी आग लगने की ख़बर है. एयरपोर्ट के सुरक्षा कर्मियों ने तुरंत इसकी सूचना दमकल विभाग को दी, जिसके कारण आग पर कुछ समय बाद ही क़ाबू पा लिया गया. लॉकडाउन की वजह से एयरपोर्ट बंद था, इसलिए आग लगने के बाद भगदड़ नहीं मची और किसी के हताहत होने की कोई ख़बर नहीं है. आग लगने के वजह स्थानीय मीडिया ने लोगों के ज़रिए पटाखें फोड़ने को बताया है.

— बिहार के मुंगेर के संग्रामपुर थाना क्षेत्र के कहुआ मुसहरी गांव में रविवार रात आग लगने की वजह से एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत हो गई. मृतकों में एक बुजुर्ग महिला और उसकी दो पोतियां शामिल हैं. आग लगने की वजह शॉर्ट सर्किट बताया जा रहा है, लेकिन स्थानीय लोगों का मानना है कि ये आग पटाखों की चिंगारी से लगी है. फिलहाल पुलिस मामले की तफ्तीश में जुटी है.

— उत्तर प्रदेश में चित्रकूट की मानिकपुर तहसील अंतर्गत पाठा इलाके क़े मरवरिया और फ़र्रुखाबाद के जंगलों में रविवार देर रात आग लगने की ख़बर है. इस आग की वजह से वन संपदा को काफ़ी नुक़सान पहुंचा है. मौक़े पर पहुंचे अधिकारियों का मानना है कि पशु चराने जाने वाले लोग अक्सर बीड़ी फेंक देते हैं, जिससे कभी-कभी आग लग जाती है. लेकिन आम लोगों का मानना है कि आग लगने की एक वजह गांव में जलाए गए पटाखे हो सकते हैं. हालांकि ये ख़बर लिखने तक आग लगने के कारण की पुष्टि नहीं हो सकी है. 

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कोरोना वायरस से लड़ने के लिए 130 करोड़ की जनता से एकजुटता दिखाने के लिए पांच अप्रैल को 9 बजे 9 मिनट के लिए अपने घरों की लाइटें बंद करके टॉर्च, मोमबत्ती और दीये जलाने की अपील की थी. बता दें कि पीएम मोदी के इस अपील में पटाखे जलाने की कोई अपील नहीं थी, लेकिन कुछ लोगों ने पटाखे जलाए. जुलूस भी निकाला. जबकि प्रधानमंत्री मोदी ने सलाह देते हुए यह भी कहा था कि इस दौरान किसी को भी, कहीं पर भी इकट्ठा नहीं होना है. रास्तों में, गलियों या मोहल्लों में नहीं जाना है, अपने घर के दरवाज़े, बालकनी से ही इसे करना है. लेकिन ज़्यादातर जगहों पर इस अपील की धज्जियां उड़ती नज़र आईं.

Loading...
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...

Most Popular

Loading...
To Top

Enable BeyondHeadlines to raise the voice of marginalized

 

Donate now to support more ground reports and real journalism.

Donate Now

Subscribe to email alerts from BeyondHeadlines to recieve regular updates

[jetpack_subscription_form]