बियॉंडहेडलाइन्स हिन्दी

भारत में धार्मिक भेदभाव के 11 उदाहरण…

  1. उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी के धार्मिक भेदभाव पर चिंता प्रकट करने पर सवाल उठाना, प्रधानमंत्री मोदी के रामचरित्रमानस जारी करने पर तालियां बजाना.
  2. इलाहाबाद हाई कोर्ट का तमाम धार्मिक संस्थानों के बजाए सिर्फ़ मदरसों पर तिरंगा फ़हराना अनिवार्य करना.
  3. नई दिल्ली के औरंगज़ेब रोड का नाम बदलना और इस पर बहस के बहाने इस्लाम को निशाना बनाना.
  4. अकबरउद्दीन ओवैसी को भड़काऊ भाषण के लिए जेल जाना, उनसे भी कट्टर भाषण देने के बावजूद योगी आदित्यनाथ का खुला घूमना.
  5. योग दिवस के नाम पर हिंदू धर्म को बढ़ावा देना और इस्लाम पर सवाल खड़े करना.
  6. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक ख़ास धर्म की पुस्तक को विदेशी न्यौताओं को भारत की ओर से भेंट करना.
  7. प्रधानमंत्री की ओर से दिए जाने वाली इफ़्तार पार्टी को बंद करना.
  8. प्रधानमंत्री का सभी धर्मों की पोशाकों को पहनना, उनके धर्मस्थलों में जाना, त्यौहार मनाना लेकिन एक ख़ास धर्म से घोषित दूरी बनाए रखना.
  9. जनता के पैसों से चलने वाले सरकारी संचार माध्यमों का इस्तेमाल एक ख़ास धर्म के प्रचार-प्रसार के लिए करना.
  10. मुसलमानों को सरकारी नौकरियों, सेना, सुरक्षा एजेंसियों से दूर रखना. शिक्षण संस्थानों और अहम सरकारी पदों पर आरएसएस के प्यादें बिठाना.
  11. और इस सबसे बढ़कर भारत सरकार के विज्ञापन में संविधान की प्रस्तावना से धर्म-निर्पेक्ष शब्द हटाना.

उदाहरण और भी बहुत हैं. आप ख़ुद से पूछिए कि ऐसा किया क्यों जा रहा है.  भारत का भविष्य आपके जवाब पर टिका है.

Loading...

Most Popular

To Top