India

यूपी और दिल्ली से हुई गिरफ्तारियों पर देश की सुरक्षा एजेंसियों से 7 सवाल

BeyondHeadlines News Desk

लखनऊ : उत्तर प्रदेश की राजनीतिक व सामाजिक संगठन रिहाई मंच ने एनआईए द्वारा यूपी और दिल्ली में कई जगहों से आतंकवाद के नाम पर की गई गिरफ्तारियों को चुनावी तैयारी बताते हुए सुरक्षा एजेंसियों द्वारा 2019 के चुनावों के ठीक पहले हरकत-उल-हर्ब-ए-इस्लाम का ख़ुलासा करने पर 7 सवाल उठाया है. वो सवाल इस प्रकार है—

1. जांच एजेंसी जिसे देसी राकेट लांचर बता रही है उसे लोग ट्रैक्टर का हाइड्रोलिक पंप कहते हैं. एनआईए बताए कि उसने किस हथियार विशेषज्ञ से यह ज्ञान प्राप्त किया कि वह राकेट लांचर है. ऐसे में एनआईए द्वारा बम बनाने के तरीक़े बताने वाले वीडियो पर भी सवाल उठ जाता है.

2. यूपी-दिल्ली के 17 जगहों पर छापेमारी हुई. 10 की गिरफ्तारी हुई जिसमें यूपी के 11 जगहों में 6 जगहें अमरोहा की थीं. एनआईए ने इसे बड़ी सफलता बताया. मीडिया के ज़रिए फैलाया गया कि पुलिस और संघ मुख्यालय आतंकियों के निशाने पर थे. इसे एनआईए ने आख़िर क्यों नहीं आरोपियों को अदालत में पेश करते वक़्त रखा.

3. एनआईए आईजी आलोक मित्तल ने सीक्रेट मॉड्यूल से ख़तरनाक हथियारों का ज़ख़ीरा मिलने और आत्मघाती हमले की बात कही. उन्हें बताना चाहिए कि जिन देसी तमंचों और सुतली बम की बरामदगी दिखाई गई, उसका इस्तेमाल क्या आईएस जैसा ख़तरनाक संगठन करेगा.

4. जांच एजेंसी ने आईएस के पोस्टर बरामद करने का दावा किया है. उन कथित पोस्टर पर किसी संगठन का नाम नहीं है. एकदम नया छपा पोस्टर सच के नज़दीक नहीं दिखते. एजेंसी को कैसे पता चला कि वह आईएस का पोस्टर है? पोस्टर घर में रखने के लिए नहीं होते तो क्या वह पोस्टर कहीं लगाए गए थे? क्या आईएस भी चुनाव में उतरने की तैयारी कर रहा है?

गौरतलब है कि 7 मार्च 2017 को लखनऊ में सैफुल्लाह को मुठभेड़ में मारने के दावे के साथ काले रंग के झण्डे की बरामदगी के आधार पर उसके आईएस से जुड़ाव का दावा एटीएस प्रमुख असीम अरुण ने किया था. उनके इस दावे को उसी शाम एडीजी लाॅ एण्ड आर्डर दलजीत चौधरी ने नकार दिया था.

5. अमरोहा के सैदपुर इम्मा के रहने वाले सईद और रईस के चचा मीडिया को बताते हैं कि सफेद गाड़ी आई और उसने घर का गेट बंद कर दिया. गाड़ी से सामान उतारा और उनसे ज़बरदस्ती साईन करवाया कि सामान उनका है. ट्रैक्टर के जैक पाइप को राकेट लांचर तो लोहे के बुरादे को बारुद बताते हुए कहा जा रहा है कि दोनों ने 25 किलो विस्फोटक खरीदे थे. यहां यह भी सवाल है कि आख़िर एनआईए ने सईद और रईस से जुड़े सारे कागज़ात चारपाई पर रखकर क्यों जला दिए.

6. एनआईए के आईजी आलोक मित्तल ने कहा कि मॉड्यूल की तैयारी के स्तर से लगता है कि निकट भविष्य में इरादा रिमोट कंट्रोल वाले और फिदायीन हमले करने का था. यह आईसी से प्रभावित नया मॉड्यूल है जो विदेशी एजेंट के संपर्क में था. रिमोट कंट्रोल, आत्मघाती जैकेट, रेडिकलाइजेशन, विदेशी आकाओं के इशारे पर संचालित इस माड्यूल की ‘गंभीरता’ और भारत पर बडे़ हमले की योजना जैसे खुलासों को देसी कट्टे की बरामदगी से कैसे पुष्ट किया जा सकता है.

7. आईएस से जोड़ने की कोशिश करते हुए हरकत-उल-हर्ब-ए-इस्लाम के संचालन से जुड़े सवाल पर एनआईए ने कहा कि इस माड्यूल के सदस्य खुद पैसे इकट्ठे करते थे. कहने की बात नहीं कि एजेंसी को फंडिग जैसे सवाल को साबित करना मुश्किल होता.

Loading...
Loading...

Most Popular

Loading...
To Top

Enable BeyondHeadlines to raise the voice of marginalized

 

Donate now to support more ground reports and real journalism.

Donate Now

Subscribe to email alerts from BeyondHeadlines to recieve regular updates

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.