India

पता नहीं, हमारी ये ईद भी कैसी गुज़रेगी?

BeyondHeadlines Correspondent

नई दिल्ली: झारखंड के रामगढ़ ज़िले का मनुआ गांव… जहां के अलीमुद्दीन अंसारी को गाय के नाम पर 29 जून, 2007 की दोपहर रामगढ़ बाज़ार में भीड़ के हाथों पीट-पीट कर मार डाला गया. 

अलीमुद्दीन अंसारी अपने पीछे 6 बच्चों को छोड़ गए थे. सबसे दुखद ये है कि अलीमुद्दीन के बड़े लड़के शहज़ाद अख़्तर ने अपने घर के हालात को संभालने के लिए अपनी पढ़ाई छोड़ दी. बावजूद इसके घर की ज़िम्मेदारी ज़्यादा दिनों तक नहीं संभाल पाया. परिवार का बोझ इस क़दर बढ़ गया कि वो तक़रीबन 6 महीने पहले ब्रेन हैमरेज के कारण इस दुनिया को हमेशा के लिए अलविदा कह गया. 

अब घर का सारा बोझ अलीमुद्दीन अंसारी की पत्नी मरियम ख़ातून (42 साल) पर है. उन्हें अपने 5 बच्चों का पेट पालना है. इन पांच बच्चों में 2 लड़के और 3 लड़कियां शामिल हैं. एक लड़का अभी 11वीं क्लास में है, वहीं दूसरा बेटा मदरसे में पढ़ता है. तीन बेटियों में बड़ी बेटी की शादी हो चुकी है. उससे छोटी बेटी मैट्रिक पास करने के बाद पढ़ाई छोड़ चुकी है. छोटी बेटी अभी 9वीं क्लास में है. और घर के हालात जैसे बने हैं, इसका भी आगे पढ़ना मुश्किल ही लग रहा है.  

मरियम बताती हैं कि बहुत से नेता आए. कई सारे आश्वासन मिले. सरकार की ओर से दो लाख की सहायता राशि मिली. कुछ क़ौम के लोगों ने भी मदद की. सरकार ने मेरे बच्चे को नौकरी देने का वादा किया. राशन कोटा का वादा किया. विधवा पेंशन का वादा किया. लेकिन कुछ भी नहीं मिला. हां, इंदिरा आवास ज़रूर मिला है.

वो आगे बताती हैं कि जो पैसे मिले, वो सब केस-मुक़दमे और दौड़-धूप में ही ख़त्म हो गया. हम अपने बच्चों को पढ़ाना चाहते हैं. लेकिन अब शायद मुमकिन नहीं है. अब तो कोई मिलने भी नहीं आता. मेरे सामने अब रोज़ी-रोटी का मसला है. कुछ समझ नहीं आता कि आगे क्या होगा. पता नहीं, हमारी ये ईद भी कैसी गुज़रेगी…

अब ऐसे में आपका ये फ़र्ज़ है कि इनकी हर तरह से मदद करें. हम नीचे मरियम ख़ातून की अकाउंट डिटेल दे रहे हैं. आप इसकी तस्दीक़ करके डायरेक्ट मदद कर सकते हैं. किसी को भी बीच में लाने की ज़रूरत नहीं है. 

Name : MARIYAM KHATOON

Account No : 542002010010826

IFSC Code: UBIN0554201

Bank: UNION BANK OF INDIA, Ramgarh, Ranchi Main Road, Ramgarh

बता दें कि इस मामले की सुनवाई के लिए गठित फास्ट ट्रैक कोर्ट ने 11 अभियुक्तों को दोषी मानकर उन्हें उम्रक़ैद की सज़ा सुनाई थी, जिनमें स्थानीय बीजेपी नेता नित्यानंद महतो भी शामिल थे. लेकिन जब ये मामला रांची हाईकोर्ट पहुंचा तो हाईकोर्ट ने इन लोगों की सज़ा पर स्टे लगाकर उन्हें ज़मानत पर रिहा कर दिया. जेल से छूटने के बाद हज़ारीबाग से बीजेपी के सांसद और केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा ने अभियुक्तों को माला पहना कर अभिनंदन किया था.

Related Story: 

Most Popular

To Top